पृष्ठ    1|2|3|4
संघठन का परिचय

संस्कृति मंत्रालय के अधीन भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण राष्ट्र की संस्कृति विरासत के पुरातत्वीय अनुसंधान तथा संरक्षण हेतु एक प्रमुख संगठन है, जिसका गठन सन् १८६१ में हुआ था। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण का प्रमुख कार्य राष्ट्रीय महत्व के प्राचीन स्मारकों तथा पुरातत्वीय स्थलों और अवशेषों का रख-रखाव करना है। इसके अतिरिक्त प्राचीन स्मारक तथा पुरातत्विक स्थल व अवशेष अधिनियम, १९५८ के प्रावधानों के अन्तर्गत यह देश में सभी पुरातत्वीय गतिविधियों को विनियमित करता है। यह पुरावशेष तथा बहुमूल्य कलाकृति अधिनियम, १९७२ को भी विनियमित करता है।

राष्ट्रीय महत्व के प्राचीन स्मारकों तथा पुरातत्वीय स्थलों व अवशेषों के रख-रखाव के लिये सम्पूर्ण देश को २४ मंडलों में विभाजित किया गया है। संगठन के पास मंडलों, संग्रहालयों, उत्खनन शाखाओं, प्रगौतिहासिक शाखा, पुरालेख शकाओं, विज्ञान शाखा, उद्यान शाखा, भवन सर्वेक्षण परियोजना, मंदिर सर्वेक्षण परियोजनाओं तथा अंतर्जलीय पुरातत्व शाखा के माध्यम से पुरातत्वीय अनुसंधानों के संचालन के लिये बड़ी संख्या में प्रशिक्षित पुरातत्वविदों, संरक्षकों, पुरालेखविदो, वास्तुकारों तथा वैज्ञानिकों का कार्यदल है।

विथिका gallery
हाल की गतिविधि
Recent Activity Recent Activity Recent Activity Recent Activity