हाल की गतिविधि

कलश पत्रिका (आई. एस. एस. एन. २३४८-३४५८) का विमोचन

        दिनांक १४.१.२०१५ को श्री एस. बी. ओटा, क्षेत्रीय निर्देशक, क्षेत्रीय निर्देशालय (मध्य क्षेत्र), भोपाल द्वारा कलश पत्रिका (आई. एस. एस. एन. २३४८-३४५८) का विमोचन किया गया। इस अवसर पर अधीक्षण पुरातत्वविद्, मंदिर सर्वेक्षण परियोजना (उ.क्षे.), भोपाल कार्यालय में एक लघु कार्यक्रम रखा गया।

आगे पढ़ें


विश्वदाय सप्ताह, २०१४, व स्वच्छता अभियान कार्यक्रम का आयोजन

        मंदिर सर्वेक्षण परियोजना (उ.क्षे.) द्वारा दिनांक १९ नवम्बर से २५ नवम्बर, २०१४ तक म. प्र. के विदिशा जिले में स्थित ग्राम बदोह-पठारी में स्कूली बच्चों तथा स्थानीय नागरिकों के सांथ विश्वदाय सप्ताह व स्वच्छता अभियान आयोजित किया। इस अवसर पर विभिन्न स्कूलों विशेषकर ज्ञानदीप माध्यमिक विद्यालय पठारी, शासकीय सीनियर सेकेंडरी बॉयस तथा गर्ल्स स्कूल, पठारी के विद्यार्थियों ने बहुत उत्साह से भाग लिया।

आगे पढ़ें


सांस्कृतिक जनचेतना कार्यक्रम व स्वच्छता अभियान, २५ अक्टूबर, २०१४

        दिनांक २५ अक्टूबर, २०१४ को म. प्र. के विदिशा जिले में स्थित शैलकृत गुफा मंदिर क्षेत्र के निकट सांस्कृतिक जनचेतना कार्यक्रम व स्वच्छता अभियान का आयोजन किया गया।

आगे पढ़ें


डॉ. एस. एस. गुप्ता की विदाई तथा नवीन अधीक्षण पुरातत्वविद् श्री जुल्फ़ेकार अली का स्वागत

         दिनांक ३० सितम्बर, २०१४ को मंदिर सर्वेक्षण परियोजना (उ. क्षे.), भोपाल से डॉ. एस. एस. गुप्ता सेवानिवृत हुए तथा उन्हें भाव-मीनी विदाई दी गई। इसके साथ ही श्री जुल्फ़ेकार अली, अधीक्षण पुरातत्वविद्, निर्देशालय, (मध्य क्षेत्र), भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने यहाँ का अतिरिक्त प्रभार संभाला।

आगे पढ़ें


हिंदी पखवाड़ा का आयोजन, २०१३

         क्षेत्रीय निर्देशालय, मध्य क्षेत्र, व मंदिर सर्वेक्षण परियोनजा (उ. क्षे.), भोपाल द्वारा संयुक्त रूप से दिनांक ०५.०९.२०१३ से २०.०९.२०१३ तक हिंदी पखवाड़े का आयोजन किया गया। इस पर दिनांक ०५.०९.२०१३ को निर्देशक, राजभाषा, कार्यान्वयन, भोपाल श्रीमती साधना त्रिपाठी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहीं जबकि श्री हरीश चौहान, परियोजना अधिकारी राजभाषा कार्यान्वयन दिनांक २०.०९.२०१३ को समापन समारोह के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे।
पखवाड़े के दौरान दोनों कार्यालय के कर्मचारियों के मध्य टंकण, काव्य-पाठ, तत्काल भासण, आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया तथा विजेताओं को पुरस्कृत भी किया गया।

आगे पढ़ें